7 गलतियां जो आप पानी पीते समय करते है | योगसूत्रम - योगसुत्रम | शरीरमाद्यं खलु धर्म साधनम्🔶| Yoga | Health Care

स्वास्थ्य लेख

Add

yogasutram_the_sacred_wish_the_health_site

शनिवार, 21 मई 2022

7 गलतियां जो आप पानी पीते समय करते है | योगसूत्रम

Mistakes you may be making while drinking water | Yogasutram


इस धरती पर हर जानवर और पक्षी जानता है कि कहां से पानी पीना है, कितना पानी पीना है और कब पीना है। तो हम अकेले क्यों हैं जो पीने के पानी की बात करते समय इतने भ्रमित होते हैं। कभी-कभी कोई कहता है - "1 गिलास मत पीना। 8 गिलास पियो"। "रात में मत पिओ, सुबह पी लो"। "इस फ़िल्टर का उपयोग न करें। उस फ़िल्टर का उपयोग करें।" कोई कहता है - "गर्म पी लो"। कोई कहता है - "इसे कमरे के तापमान पर पिएं"।


आप क्या करते हैं?


लेकिन अब आपका सारा भ्रम दूर होने वाला है। इस लेख को पढ़ें, आपको पानी के बारे में सब कुछ पता चल जाएगा। पहले हम उन गलतियों को समझेंगे जो आप पानी पीते समय कर रहे होंगे। इसके साथ ही आप प्राकृतिक रूप से पानी को फिल्टर करने का सबसे शक्तिशाली तरीका भी सीखेंगे। आजकल RO/UV/UF/NANO/COPPER ION ETC जैसी कई तकनीकें हैं और यह वास्तव में भ्रम है।


जानिए प्रकृति का तरीका


1. अपना पानी / पेय धीरे-धीरे चबाएं। जल्दी मत निगलो।बैठो और धीरे से पी लो

2. गर्मी में कमरे के तापमान में, मिट्टी के बर्तन में पियें।

3. खाना खाते समय पानी न पिएं।

4. मिट्टी/कांच की बोतलों में पानी पिएं, प्लास्टिक की बोतलों को ना कहें।

5. धूप में चार्ज किया हुआ पानी - एक मिट्टी का बर्तन/कांच की बोतल रखें- इसे मलमल के कपड़े से बंद करके पानी डालें - 4-5 घंटे के लिए धूप में रख दें।

6. अपनी जीवनशैली और प्यास के अनुसार पानी पिएं।

7. ज्यादा गर्म या ठंडा पानी नहीं


हमें पानी कैसे पीना चाहिए?


आपको एक घूंट लेना चाहिए और इसे अपने मुंह में थोड़ा सा घुमाना चाहिए और फिर इसे नीचे ले जाना चाहिए।

क्या होता है? ऐसा करने से आपके मुंह में लार बनती है, जो पानी के साथ मिल जाती है। जैसे हमारे देश के 2 सबसे प्राचीन प्राकृतिक विज्ञान आयुर्वेद और प्राकृतिक चिकित्सा के अनुसार भोजन को पचाने के लिए लार कैसे आवश्यक है, तरल पदार्थ को भी पचाना आवश्यक है। तो इसलिए आज से ही अपना पानी न पिएं। अपना पानी खाओ।


कमरे के तापमान का पानी पीना जरूरी है। क्योंकि पानी जो ज्यादा ठंडा या ज्यादा गर्म होता है, वह शरीर के लिए छोटे झटके की तरह होता है। शरीर को इसे कमरे के तापमान पर लाने और फिर शरीर के बाकी हिस्सों में भेजने के लिए दोगुनी मेहनत करनी पड़ती है। अब अगर गर्मी ज्यादा है और ठंडा पानी पीने का मन कर रहा है तो सबसे अच्छा उपाय है मिट्टी के बर्तन। पानी को मिट्टी के बर्तन में स्टोर करें। यह पानी को उतना ही ठंडा करेगा, जितना आपके शरीर के लिए आवश्यक है। और सर्दियों में आप गुनगुना पानी पी सकते हैं। बस इतना ठंडा या बहुत गर्म पानी पीने से बचें।


भोजन करते समय हमें कितना पानी पीना चाहिए?


जब आप खाते हैं तो आपके पेट में आग लगती है, जिसे आयुर्वेद पाचक अग्नि कहता है। यह वह अग्नि है जो आपके शरीर में भोजन को पचाती है। जब आप खाना खाते समय पानी पीते हैं, खाने से ठीक पहले या बाद में यह आपकी पाचन अग्नि को बुझा देता है और आपका खाना पचता नहीं है तो यह अंदर सड़ने लगता है और गैस, सूजन और एसिडिटी जैसी समस्याएं पैदा करता है। इसलिए याद रखें, पीने के पानी के लिए अपने भोजन से पहले या बाद में कम से कम 40 मिनट का अंतर रखें और अगर आप वास्तव में खाना खाते समय पानी पीना चाहते हैं, तो 1 या 2 छोटे घूंट लें। पानी निचोड़ कर पी रहे हैं। पूरा गिलास न पिएं।


हमें किसमें पानी पीना चाहिए?


स्टोर से खरीदी बोतलों में जो पानी मिलता है वह मरा हुआ पानी होता है। इसका कोई जीवन नहीं है। कल्पना कीजिए कि यह कितने महीने पहले कारखानों में पैक किया जाता है और कैसे निकलता है। अपना छना हुआ पानी भरें, इसे एक पतले सूती कपड़े से ढँक दें और बर्तन के मुँह के चारों ओर बाँध दें। ताकि कोई भी कीट या पत्तियाँ पानी में न गिरें। इसे 5-8 घंटे के लिए धूप में रख दें।


हमें प्रतिदिन कितना पानी पीना चाहिए?


3 लीटर, 8 गिलास, 4 गिलास या 2 गिलास? हर किसी की पानी की अलग-अलग जरूरतें होती हैं। आप पर्याप्त पानी पी रहे हैं या नहीं, यह जानने के लिए एक सरल परीक्षण है। बस अपने मूत्र के रंग का निरीक्षण करें। यदि आपका मूत्र गहरा पीला है, तो इसका मतलब है कि आपका शरीर गंभीर रूप से निर्जलित है। अगर आपका पेशाब हल्का पीला या लगभग सफेद है, तो इसका मतलब है कि आपके शरीर को पर्याप्त पानी मिल रहा है।


अपनी जीवनशैली के अनुसार औसतन एक दिन में 1-3 लीटर पानी की चुस्की लेते रहें। क्योंकि हमारे शरीर को हाइड्रेट रखना बहुत जरूरी है। यह हमें अंदर से साफ करता है, हमारे अंगों को ठीक से काम करने की ताकत देता है, हमारे रक्त का संचार करता है।


Cold Water Vs Warm Water | Yogasutram


ठंडा पानी बनाम गरम पानी


गर्मी के मौसम में आमतौर पर लोग पानी ज्यादा पीते हैं। गर्मियों में अपने शरीर को हाइड्रेट रखने के लिए खूब पानी पीना जरूरी है। हालांकि, सूखे के दिनों में ढेर सारा ठंडा पानी पीने से लोगों को कई तरह की शारीरिक समस्याओं का सामना करना पड़ता है। नेशनल एकेडमी ऑफ साइंसेज के अनुसार, 18 साल से अधिक उम्र के लोगों को रोजाना कम से कम 3.7 लीटर पानी जरूर पीना चाहिए। शरीर में पानी की कमी से कई स्वास्थ्य समस्याएं हो सकती हैं।


यह न भूलें कि गर्मी के दिनों में रोजाना ठंडा पानी पीना आपके शरीर के लिए हानिकारक हो सकता है। गर्मी के दिनों में फ्रिज से बाहर निकलना और ठंडा पानी पीना राहत की बात हो सकती है, लेकिन जानकारों के मुताबिक ठंडा पानी शरीर को काफी नुकसान पहुंचा सकता है।

तो ठंडा पानी पीने से कुछ शारीरिक फायदे भी होते हैं। जानिए ठंडा पानी पीने के फायदे और नुकसान के बारे में।

नियमित पानी के बजाय ठंडा पानी पीने से प्रक्रिया बाधित होती है। ठंडे पानी से कब्ज की समस्या हो सकती है और नियमित रूप से ठंडा पानी पीने से पेट की कार्यक्षमता कम हो सकती है। यहां तक कि नसों में रक्त का प्रवाह भी धीमा हो जाता है। स्वास्थ्य विशेषज्ञों ने चेतावनी दी है कि गर्म मौसम में भी कुछ समय के लिए ठंडे पानी की समस्या हो सकती है।


ठंडा पानी पीने से क्या हो सकता है?


कब्ज़ की शिकायत


डॉक्टर दिन में किसी भी समय ठंडे पानी के बजाय गर्म पानी पीने की सलाह देते हैं। ठंडे पानी का शरीर पर क्या प्रभाव पड़ता है, इस पर काफी शोध हुए हैं। ठंडा पानी पीने से शरीर में पाचन क्रिया बाधित होती है। अध्ययनों से पता चलता है कि जो लोग नियमित रूप से ठंडा पानी पीते हैं उन्हें पेट दर्द की समस्या होती है।


श्वसन संबंधी रोग


हर समय ठंडा पानी पीने से पेट और शरीर के अन्य हिस्सों पर भी नकारात्मक प्रभाव पड़ता है। 16 तारीख को किए गए एक अध्ययन से यह बात सामने आई है। हर समय ठंडा पानी पीने से नाक या बलगम में रुकावट हो सकती है। सांस लेने के दौरान समस्याएं दिखाई देती हैं। इसके अलावा, ठंडा पानी पीने से कई तरह की फ्लू और सर्दी की समस्या हो सकती है।


माइग्रेन की समस्या


ठंडा पानी पीना सिरदर्द का एक बड़ा कारण हो सकता है। ठंडे पानी को माइग्रेन की समस्या को बढ़ाने के लिए दिखाया गया है। अगर आपको माइग्रेन है तो ठंडा पानी समस्या को कई गुना बढ़ा देता है।


ठंडा पानी पीने का सबसे अच्छा समय क्या है?


ठंडा पानी पीने से सिर्फ शारीरिक नुकसान नहीं होता है। ठंडा पानी निश्चित समय पर ही शरीर के लिए अच्छा होता है। व्यायाम या योग के बाद ठंडा पानी पीना आपकी सेहत के लिए अच्छा होता है। इसके अलावा, ठंडा पानी किसी भी समय शरीर के लिए हानिकारक हो सकता है।





कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें