बहुत कम उम्र में सफ़ेद बालों के लिए आयुर्वेदिक उपचार कैसे करें? - योगसुत्रम | शरीरमाद्यं खलु धर्म साधनम्🔶| Yoga | Health Care

स्वास्थ्य लेख

Add

yogasutram_the_sacred_wish_the_health_site

सोमवार, 16 मई 2022

बहुत कम उम्र में सफ़ेद बालों के लिए आयुर्वेदिक उपचार कैसे करें?

Ayurvedic remedies to reverse premature greying of hair | Yogasutram


युवावस्था में सभी के बाल आमतौर पर काले होते हैं। यह सामान्य बात है। लेकिन अब बहुत छोटे बच्चों के बाल पकने लगे हैं। यह ज्यादातर लोगों के लिए चिंता का विषय है। यहां तक ​​कि पुरुषों की तुलना में महिलाओं के माथे पर सफेद बाल होने और अवसाद से पीड़ित होने की संभावना अधिक होती है। एक-एक करके, एक-एक करके बाल खींचे जा रहे हैं या केमिकल रंगे जा रहे हैं। इतना ही नहीं, दोस्तों और परिचितों की मदद से वे तरह-तरह के तेल और दवाओं का इस्तेमाल कर रहे हैं। "आज आप जिधर भी देखें, संरक्षणवादी भावना का ज्वार बह रहा है। अब जानें कि कम उम्र में बालों के झड़ने से कैसे निपटा जाए और आयुर्वेदिक उपचारों से इससे कैसे निपटा जाए।

कम उम्र में बाल सफेद क्यों हो जाते हैं?


युवा किशोरों और युवाओं की बाल सफेदी पर काफी शोध हुए हैं। यह तब हमारे संज्ञान में आया था। इसे आनुवंशिक समस्या कहा जाता है, क्योंकि यह पीढ़ी दर पीढ़ी होती है।


बाल सफेद होने का क्या कारण है


बालों के रंग में बदलाव का मुख्य कारण फॉलिकल्स में मेलेनिन पिगमेंट में कमी होना है। साथ ही आधुनिक जीवनशैली के कारण बाल तेजी से परिपक्व हो रहे हैं। आनुवंशिक समस्याएं, मानसिक असंतुलन, तनाव, प्रदूषण का प्रभाव और गर्मी में बहुत अधिक समय बिताना भी बालों के बढ़ने के अन्य कारण हो सकते हैं। विशेषज्ञों के अनुसार, अगर बाल 18 साल बाद परिपक्व हो रहे हैं, तो इसे गंभीरता से लेने की सलाह नहीं दी जाती है। लेकिन अगर बाल 18 साल पहले परिपक्व हो गए हैं, तो इसका इलाज करने की जरूरत है।


हमारे शरीर में लाखों बालों के रोम होते हैं, जो त्वचा में भी मौजूद होते हैं। ये रोम मेलेनिन के साथ वर्णक कोशिकाओं का उत्पादन करते हैं। जब ये रोम छिद्र किसी कारण से वर्णक कोशिकाओं को खो देते हैं, तो बाल सफेद हो जाते हैं।


Why does hair turn grey at an early age | Yogasutram

अधिक पढ़ें: शीशे की तरह चमकेंगे आप - इन पांच खाद्य पदार्थों को अपने आहार में शामिल करें


सफ़ेद बालों के लिए आयुर्वेदिक उपचार कैसे करें?


आयुर्वेदिक उपचार से इस समस्या का समाधान किया जा सकता है। खोपड़ी को प्राकृतिक तरीके से सुधारा जा सकता है। एलोवेरा, भृंगराज, अंबाला, रीठा और शिकाकाई को बालों में लगाने से कुछ ही दिनों में बाल ठीक हो जाते हैं।


1. एलोवेरा का प्रयोग


विशेषज्ञों के अनुसार एलोवेरा का इस्तेमाल हम बालों और त्वचा की कई समस्याओं को दूर करने के लिए कर सकते हैं। एलोवेरा के रस को त्वचा के आधार से लेकर बालों के ऊपर तक कुछ दिनों तक लगाने से बालों की स्थिति में सुधार आता है। यह आपकी त्वचा को स्वस्थ रखता है और आपके बालों को घना और मुलायम बनाता है।


2. भृंगराज का प्रयोग


इसी तरह बालों के लिए भी भृंगराज बहुत फायदेमंद होती है। इसका उपयोग बालों के झड़ने और सूखेपन के इलाज के लिए किया जा सकता है। भृंगराज को बालों में लगाने से बाल बढ़ने के साथ-साथ मुलायम भी होते हैं। यह विटामिन वी ई से भरपूर होता है, जो बालों के प्राकृतिक रंग को बरकरार रखता है।


3. अंबाला, रीठा और शिकाकाई का प्रयोग


आयुर्वेदिक उपचारों में, हम बालों में अंबाला, रीठा और शिकाई के संयोजन का उपयोग कर सकते हैं। इसके इस्तेमाल से बालों की कोशिकाओं के विकास को बढ़ावा मिलता है। अंबाला में विटामिन सी सहित एंटीऑक्सीडेंट गुण होते हैं, जिसमें आयरन होता है। नतीजतन, बालों के झड़ने और पतले होने की समस्या को कम किया जा सकता है।

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें